Aaj Kal Paon Zameen Par Lyrics - GHAR (1978)

Aaj Kal Paon Zameen Par Lyrics sung by Lata Mangeshkar is an Old Hindi Romantic Song from Ghar (1978). The song lyrics are written by Gulzar while the music is produced by R.D. Burman. In this post, you will find the lyrics and the music video of Aaj Kal Paon Zameen Par Song featuring Vinod Mehra, and Rekha.

Aaj Kal Paon Zameen Par Lyrics - Lata Mangeshkar | Gulzar | R D Burman | Ghar Movie 1978
Aaj Kal Paon Zameen Par Lyrics - GHAR (1978)

Aaj Kal Paon Zameen Par Song Details

Song Title: Aaj Kal Paon Zameen Par
Singer: Lata Mangeshkar
Music: R.D. Burman
Lyrics: Gulzar
Featuring: Vinod Mehra, Rekha
Music Label: Saregama Music
Movie: Ghar (1978)
Director: Manik Chatterjee

Aaj Kal Paon Zameen Par Lyrics in Hindi

आज कल पाव जमी पर नहीं पड़ते मेरे
आज कल पाव जमी पर नहीं पड़ते मेरे
बोलो देखा है कभी तुमने मुझे उड़ते हुए

आज कल पाव जमी पर नहीं पड़ते मेरे

जब भी थामा है तेरा हाथ तो देखा है
जब भी थामा है तेरा हाथ तो देखा है
लोग केहते हैं की बस हाथ की रेखा है
हमने देखा है दो तकदीरों को जुड़ते हुए

आज कल पाव जमी पर नहीं पड़ते मेरे
बोलो देखा है कभी तुमने मुझे उड़ते हुए
आज कल पाव जमी पर नहीं पड़ते मेरे

नींद सी रेहती है हल्कासा नशा रेहता है
रात दिन आँखों में एक चेहरा बसा रेहता है
पर लगी आँखों को देखा है कभी उड़ते हुए, बोलो

आज कल पाव जमी पर नहीं पड़ते मेरे
बोलो देखा है कभी तुमने मुझे उड़ते हुए
आज कल पाव जमी पर नहीं पड़ते मेरे

जाने क्या होता है हर बात पे कुछ होता है
दिन में कुछ होता है और रात में कुछ होता है
थाम लेना जो कभी देखो हमें उड़ते हुए

आज कल पाव जमी पर नहीं पड़ते मेरे
बोलो देखा है कभी तुमने मुझे उड़ते हुए
आज कल पाव जमी पर नहीं पड़ते मेरे

Written By: Gulzar

Aaj Kal Paon Zameen Par Lyrics in English

Aaj Kal Paon Zameen Par Nahin Padte Mere
Aaj Kal Paon Zameen Par Nahin Padte Mere
Bolo Dekha Hai Kabhi Tumne Mujhe Udte Hue

Aaj Kal Paon Zameen Par Nahin Padte Mere

Jab Bhi Thama Hai Tera Haath To Dekha Hai
Jab Bhi Thama Hai Tera Haath To Dekha Hai
Log Kehte Hain Ki Bas Haath Ki Rekha Hai
Humne Dekha Hai Do Taqdeeron Ko Judte Hue

Aaj Kal Paon Zameen Par Nahin Padte Mere
Bolo Dekha Hai Kabhi Tumne Mujhe Udte Hue
Aaj Kal Paon Zameen Par Nahin Padte Mere

Neend Si Rehti Hai Halkasa Nasha Rehta Hai
Raat Din Aankhon Mein Ek Chehra Basa Rehta Hai
Par Lagi Aankhon Ko Dekha Hai Kabhi Udte Hue, Bolo

Aaj Kal Paon Zameen Par Nahin Padte Mere
Bolo Dekha Hai Kabhi Tumne Mujhe Udte Hue
Aaj Kal Paon Zameen Par Nahin Padte Mere

Jaane Kya Hota Hai Har Baat Pe Kuch Hota Hai
Din Mein Kuch Hota Hai Aur Raat Mein Kuch Hota Hai
Thaam Lena Jo Kabhi Dekho Hame Udte Hue

Aaj Kal Paon Zameen Par Nahin Padte Mere
Bolo Dekha Hai Kabhi Tumne Mujhe Udte Hue
Aaj Kal Paon Zameen Par Nahin Padte Mere

Post a Comment