Aye Raat Na Dhalna Lyrics – Raza Abbas Zaidi

Aye Raat Na Dhalna Lyrics sung by Syed Raza Abbas Zaidi and written by Syed Nasir Hussain Zaidi.

aye-raat-na-dhalna-lyrics-raza-abbas-zaidi

Aye Raat Na Dhalna Song Details

Song TitleAye Raat Na Dhalna
SingerSyed Raza Abbas Zaidi
LyricsSyed Nasir Hussain Zaidi
Music LabelRaz Records

Aye Raat Na Dhalna Lyrics in Hindi

ऐ रात ना ढलना
के उजड़ जाएगी जैनब
भाई से दम-ए-सुबह
बिछड़ जाएगी जैनब
ऐ रात ना ढलना
के उजड़ जाएगी जैनब

सोने दे सकीना को
के फिर सो ना सकेगी
रोना भी जो चाहेगी तो
फिर रो ना सकेगी
असग़र से मुलाक़ात तो
फिर हो न सकेगी

ऐ रात ना ढलना …

घबराए हुए लाल है
सेहमी हुई मायें
जी भर के मैं दे दूँ
अली अकबर को दुआएँ
लेना है अभी औन ओ
मोहम्मद की बलाएँ

ऐ रात ना ढलना …

ऐ रात बिखर जा तेरे
बस में है जहाँ तक
मिट जायेंगे कल
आल ए पयंबर के निशान तक
बाकी है ये मंज़र
अली अकबर की अज़ान तक

ऐ रात ना ढलना …

बाकी है अभी
आल ए मुहम्मद का सफ़ीना
बेटी के सुलाने को है
शब्बीर का सीना
झूला अली असग़र का
झूलाती है सकीना

ऐ रात ना ढलना …

कल कौन सुनेगा मेरी
ये आह ओ बुका भी
होगा तहे खंजर मेरे
भाई का गला भी
खैमा तो कुजा सर पे ना
होगी ये रिदा भी

ऐ रात ना ढलना …

ऐ रात घड़ी भर को तू
रे दे सुकून में
घिर जायेंगे नासिर मेरे
आदा की सफ़ों में
ये चाँद से चेहरे तो
नहा जायेंगे खून में

ऐ रात ना ढलना
के उजड़ जाएगी जैनब
भाई से दम-ए-सुबह
बिछड़ जाएगी जैनब

Written By: Syed Nasir Hussain Zaidi

Aye Raat Na Dhalna Video Song

Video Credits: Raz Records