Zindagi Bata De Lyrics – Tony Kakkar

Zindagi Bata De Lyrics sung by Tony Kakkar is a Hindi Song also written & composed by him (Tony Kakkar).

Tony Kakkar’s Zindagi Bata De Lyrics touches upon themes such as the superficiality of the world, the importance of money, and the fear of losing loved ones. Ultimately, the song conveys a sense of resignation and acceptance of the harsh realities of life.

zindagi-bata-de-lyrics-tony-kakkar

Zindagi Bata De Song Details

Song TitleZindagi Bata De
SingerTony Kakkar
MusicTony Kakkar
LyricsTony Kakkar
FeaturingTony Kakkar
Music LabelTony Kakkar

Zindagi Bata De Lyrics in Hindi

जिंदगी बता दे क्यूँ तू खफ़ा है
साँसें ही तो ले रहा हूँ
ये भी क्या गुनाह है

जिंदगी बता दे क्यूँ तू खफ़ा है
साँसें ही तो ले रहा हूँ
ये भी क्या गुनाह है

मेरे अपने भी अपने नहीं है क्यूँ
मेरे सपने नहीं है नहीं है क्यूँ
मुझे खुद से उम्मीदें है ना जाने क्यूँ
लोगों से उम्मीदें नहीं है क्यूँ

मेरी बर्बादी चाहत सारों की थी
एक फेहरिस्त लंबी रिश्तेदारों की थी
मुझे इक शक्स अपना नहीं क्यूँ दिखा
कल मेहफ़िल में भीड़ हजारों की थी

जिंदगी बता दे क्यूँ तू खफ़ा है
साँसें ही तो ले रहा हूँ
ये भी क्या गुनाह है

जिंदगी बता दे क्यूँ तू खफ़ा है
साँसें ही तो ले रहा हूँ
ये भी क्या गुनाह है

मैंने जाना ये दुनिया सिर्फ मतलब से चलती है
हो गई मोहब्बत ये मेरी ही गलती है
अपनों को खोने का डर नहीं किसी को
दुनिया है बाबू पैसे से डरती है

दिखता है नुकसान दिखता नफा है
पैसों से बिकती है, बिकती वफ़ा है
हर चीज का मोल होता यहाँ पे
लाखों रुपये की एक एक अदा है

जिंदगी बता दे क्यूँ तू खफ़ा है
साँसें ही तो ले रहा हूँ
ये भी क्या गुनाह है

जिंदगी बता दे क्यूँ तू खफ़ा है
साँसें ही तो ले रहा हूँ
ये भी क्या गुनाह है

मेरे यार मर जाना है, जाना है
जिंदगी हकीकत या फसाना है
जाना है, जाना है, जाना है
जिंदगी हकीकत या फसाना है

जिंदगी बता दे क्यूँ तू खफ़ा है
साँसें ही तो ले रहा हूँ
ये भी क्या गुनाह है

Written By: Tony Kakkar

You May Also Like

Zindagi Bata De Video Song

Video Credits: Tony Kakkar

Zindagi Bata De Lyrics in English

Zindagi Bata De Kyun Tu Khafa Hai
Saansein Hi To Le Raha Hoon
Ye Bhi Kya Gunah Hai

Zindagi Bata De Kyun Tu Khafa Hai
Saansein Hi To Le Raha Hoon
Ye Bhi Kya Gunah Hai

Mere Apne Bhi Apne Nahi Hai Kyun
Mere Sapne Nahi Hai Nahi Hai Kyun
Mujhe Khud Se Umeedein Hai Na Jaane Kyun
Logon Se Umeedein Nahi Hai Kyun

Meri Barbaadi Chahat Saaron Ki Thi
Ek Fehrist Lambi Rishtedaaron Ki Thi
Mujhe Ik Shakhs Apna Nahi Kyun Dikha
Kal Mehfil Mein Bheed Hazaaron Ki Thi

Zindagi Bata De Kyun Tu Khafa Hai
Saansein Hi To Le Raha Hoon
Ye Bhi Kya Gunah Hai

Zindagi Bata De Kyun Tu Khafa Hai
Saansein Hi To Le Raha Hoon
Ye Bhi Kya Gunah Hai

Maine Jaana Ye Duniya Sirf Matlab Se Chalti Hai
Ho Gayi Mohabbat Ye Meri Hi Galti Hai
Apno Ko Khone Ka Dar Nahi Kisi Ko
Duniya Hai Babu Paise Se Darti Hai

Dikhta Hai Nuksan, Dikhta Nafa Hai
Paiso Se Bikti Hai, Bikti Wafa Hai
Har Cheez Ka Mol Hota Yahan Pe
Lakhon Rupye Ki Ek Ek Ada Hai

Zindagi Bata De Kyun Tu Khafa Hai
Saansein Hi To Le Raha Hoon
Ye Bhi Kya Gunah Hai

Zindagi Bata De Kyun Tu Khafa Hai
Saansein Hi To Le Raha Hoon
Ye Bhi Kya Gunah Hai

Mere Yaar Mar Jana Hai, Jana Hai
Zindagi Haqeeqat Ya Fasana Hai
Jana Hai, Jana Hai, Jana Hai
Zindagi Haqeeqat Ya Fasana Hai

Zindagi Bata De Kyun Tu Khafa Hai
Saansein Hi To Le Raha Hoon
Ye Bhi Kya Gunah Hai